Sad 2 Line Shayari

Alone Sad 2 Line Shayari In Hindi – अकेलापन शायरी

Sad Shayari

दोस्तो आज की पोस्ट में हम आपके लिए लेकर आए है Alone Sad Shayari In Hindi जिसमे 2 Line में इंसान के अकेलेपन में आने वाले भावो को व्यक्त किया है। अगर आपको भी किसी ने अकेला छोड़ा है तो नीचे लिखी गई शायरी आपके लिए है, इन्हे आप आपने Social Media पर Upload करके आपका उदास मूड व्यक्त कर सकते है।

Alone Sad 2 Line Shayari

Read Also – Dukh Bhari Shayari

Sad 2 Line Shayari

समझाने वाले हजार है, पर समझने वाला कोई नही।

मे किसी का इतना हु, जितना वो मेरा है।

अपनो से अच्छा तो गम है साथ नही छोडता।

क्या फायदा उस यार का, जिसका हर कोई यार हो।

आत्मा कि चोट सिर्फ परमात्मा ही समझता है।

जख्म कहा बोलते है रह जाती है बस निशानिया।

हद उसके लिये पार करना, जो तुम्हारे लिये बेहद हो।

अब मुझे रास आ गया अकेलापन, अब आप अपने वक्त का अचार डालिये।

एक बार Ignore करना सिख जाउ फिर Life सेट है।

शायद मुझमे वो बात नही थी, जिसकी तलाश थी उनको।

मै गुंगा नही बस मौन हु…., जल्द ही बताउंगा कि मे कौन हु।

किसी की कहानी मे फिजुल सा किरदार थे हम।

कुछ लोग सिर्फ तुम्हारे सामने ही तुम्हारे होते है।

मौत ना हो तो पता कैसे चलता, जाने वाला हमारे लिये कितना खास था।

अपने वो होते है, जो समझते भी है और समझाते भी है।

जिंदगी मे एक बार प्यार जरुर करना चाहिये, ये जानने के लिये कि प्यार क्यो नही करना चाहिये।

गैरो से कैसी शिकायत, जब समझा अपनो ने ही नही।

जब मन भर जाये तो बेहतरीन भी बेकार लगता है।

दिखाकर वो ख्वाब आसमानो के, जमी पर ही मेरा ना हुआ।

सीधे लोग और सिधे रास्ते अक्सर किसी को पसंद नही आते।

लोग अपना बनाकर गैर हो जा रहे है।

जब अपने ही गद्दारी करे तो कैसे कोई यारी करे।

गैरो पर कौन गौर करता है, बात जब भी चुभती है अपनो की चुभती है।

दुसरो कि खुसी के लिये हमने अपनी खुसी नही देखी, फिर भी लोग हमे गलत ही कहते है।

बहुत मासुम थे हम, पर ज़िंदगी ने समझदार बना ही दिया।

हर किसी के लिये खुली किताब ना बनो, टाइमपास का दौर है पढ कर फैक दिये जाओगे।

जरा सा हालात बदलते ही, लोगो का रंग बदल जाता है।

रिस्ते जितने कम होंगे, सुकुन उतना ज्यादा होगा।

कभी-कभी नाराज़गी दुसरो से ज्यादा खुद से होती है।

आदत डालकर कहते हो, मजबुरी को समझो।

पानी दरिया मे हो या आंखो में, गहराई और राज़ दोनो मे होते है।

हल्की फुल्की सी है ज़िंदगी, बोझ तो ख्वाइशो का है।

तुम ज़माना देख आओ, मे यही खडा हू”

लोग बदलते नही गालिब, बेनकाब होते है।

ज़िंदगी उस दौर में है, जहा ज़िंदगी ही पसंद नही आ रही।

कभी किसी के पीछे इतना नही भागना चाहिये, की पैरो से पहले दिल थक जाये।

दिल से उतर जाने वाले लोग, सामने खडे हो तो भी नज़र नही आते।

अगर खुल कर जिना है, तो कभी किसी पर मरना नही।

जिससे से खतम हो जाती है उम्मीदे, उनसे फिर शिकायत नही रहती।

किसी ने सच ही कहा है, अच्छा नही होता ज्यादा अच्छा होना भी।

हमे आशा है की ऊपर दी गईं 2 लाइन alone sad शायरी आपको जरूर पसंद आई होगी, अगर आप ऐसी ही Shayari और Status रोज पाना चाहते है तो हमे Instagram पर जरूर फोलो करें।