Gulzar Shayari On Love

Gulzar Shayari On Love – गुलज़ार लव शायरी!

Love Shayari

Gulzar sahib’s name comes first in the world of Shayari. In today’s post, we have brought Gulzar Sahab’s Shayari on love in Hindi, which also includes his deep love of romantic poetry. We have written the Shayari written by him in both Hindi and English, which you can copy and paste and share on your social media.

Gulzar Shayari On Love

Read Also – Attitude Shayari

Read Also – Shayari On Life

Gulzar Shayari On Love

अगर किसी से मोहब्बत बेहिसाब हो जाए¸
तो समझ जाना वह किस्मत में नही।

Agar kisi se mohabbat behisab ho jaye to samaj lena woqismat me nhi.

तुम्हे जो याद करता हुँ, मै दुनिया भूल जाता हूँ।
तेरी चाहत में अक्सर, सभँलना भूल जाता हूँ।

Tumhe jo yaad karta hu, me duniya bhul jata hu. Teri chahat me aksar, sambhalna bhul jaata hu.

महफ़िल में गले मिलकर वह धीरे से कह गए,
यह दुनिया की रस्म है, इसे मुहोब्बत मत समझ लेना।

Mahfil me gale milkar vah dhire se kah gaye, yah duniya ki rasm hai isse muhobbat mat shamaj lena. – Shayari On Love by gulzar

तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं। – Gulzar Shayari

Tere jaane se to kuchh badla nahi, Raat bhi aayi or chand bhi tha, Magar nind nahi.

कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते,
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें।

Kaun Kahta hai ki hum jhuth nahi bolte, Ek baar kheriyat to puchh ke dekhiye.

खता उनकी भी नहीं यारो वो भी क्या करते,
बहुत चाहने वाले थे किस किस से वफ़ा करते।

Khata unki bhi nahi yaaro wo bhi kya karte, Bahut chahne wale the kish kish se wafaa karte.

हजारों ख्वाब टूटते है,
तब कहीं एक सुबह होती है।

Hajaro khvab tootte hai, Tab kahi ek subah hoti hai.

दूसरा मौका सिर्फ, मोहब्बत को दिया जाता हे,
जिस शख्स से, मोहब्बत थी उसे नहीं।

Dusra moka sirf mohabbat ko diya jata hai, jis shakhs se, mohabbat thi use nahi.

एक सितारा जल्दी जल्दी डूब गया,
मैंने जब तारे गिनने की कोशिश की।

Ek sitara jaldi jaldi doob gaya, Mene jab taare ginne ki kosish ki. – Guljar Love Shayari

अगर आंसुओं की कीमत होती तो,
कल रात वाला तकिया अरबों का होता।

Agar aansuo ki kimat hoti to, kal raat wala takiya arabo ka hota.

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते। – Hindi Love Shayari

Haath chhute bhi to rishta nahi chhoda karte, wakt ki shaakh se lamhe nahi toda karte.

बेपनाह चाहने से लेकर बेपरवाह
हो जाने तक का सफर इश्क होता है!

Bepnah chahne se lekar beparwah ho jaate tak ka safar ishq hota hai.

मोहब्बत अपनी जगह, नफरत अपनी जगह
मुझे दोनो है तुमसे।

Mohabbat apni jagah, nafrat apni jagah mujhe dono he tumse.

वो चीज जिसे दिल कहते हैं,
हम भूल गए हैं रख कर कहीं!!

Wo chij jise dil kahate hai, Hum bhul gaye hai rakh kar kahi.

वो शख़्स जो कभी मेरा था ही नही,
उसने मुझे किसी और का भी नही होने दिया।

Wo shaks jo kabhi mera tha hi nahi, usane mujhe kisi or ka bhi nahi hone diya.

कैसे गुजर रही है, सब पूछते है,
कैसे गुजारता हूं कोई नही पूछता।

Kaise gujar rahi hai sab puchhte hai, Kaise gujar raha hoon koi nahi puchhta.

इतना क्यों सिखाए जा रही हो जिंदगी,
हमें कोनसी यहा ज़िन्दगी गुजारनी है।

Itna kyo sikhaye ja rahi ho jindagi, hame konsa yaha Zindagi gujarni hai.

जरुरी नहीं हर ख्वाब, पूरा हो,
सोचा तो उसे ही जाता हे, जो अधूरा हो।

Jaruri nahi har khvab pura ho, socha to use hi jata hai jo adhura ho.

तजुर्बा कहता है रिश्तों में फासला रखिए,
ज्यादा नजदीकियां अक्सर दर्द दे जाती है। – गुलज़ार कि लव शायरी

Tajurba kahta hai rishto me faasle rakhiye, jyada najdikiya aksar dard de jati hai.

मोहब्बत ज़िन्दगी बदल देती है,
मिल जाए तब भी और ना मिले तब भी।

Mohabbat zindagi badal deti hai, Mil jaye tab bhi na mile tab bhi.

सालों बाद मिले वो गले लगाकर रोने लगे,
जाते वक्त जिसने कहा था तुम्हारे जैसे हज़ार मिलेंगे।

Saalo baad mile vo gale lagakar rone lage, Jaate wakt jisne kaha tha tumhare jaise hajaar milenge.

बहुत मुश्किल से करता हूँ, तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है।

Bahut mushkil se karta hu teri yaado ka karobaar, munaafa kam he, par gujara ho hi jaata hai.

इश्क उसी से करो जिसमें खामियां बेशुमार हो,
ये खूबियों से भरे चेहरे इतराते बहुत है।

Ishq usi se karo jisme khamiya beshumar ho, Ye khubiyo se bhare chehre itraate bohot hai.

मीलों का सफर पल में बर्बाद कर गया,
उसका यह कहना…कहो कैसे आना हुआ?

Milo ka safar pal me barbaad kar gaya, Uska yah kahana… kaho kaise aana hua.

ज़रा ज़रा सी बात पर तकरार करने लगे हो,
लगता है मुझसे बेइन्तेहा प्यार करने लगे हो।

Jara jara si baar par takraar karne lage ho, Lagta hai mujhse beinteha pyaar karne lage ho.

ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा..
क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा..

Zindagu yu hui basar tanha.. Kafila saath or safar tanha…

प्यार कब किसका पूरा होता है,
इसका तो पहला अक्षर ही अधूरा होता है।

Pyaar kab kiska pura hota hai, iska to pahla akshar hi adhura hota hai.